Labels

Thursday, December 7, 2017

प्रथम उपन्यास

लेखक नाम     -                   उपन्यास नाम

अमित खान-              तिलक रोङ का भूत
( करण सक्सेना सीरिज, 1993, सुमन पॉकेट बुक्स)

2. परशुराम शर्मा -        चीखों का संसार

3. गजला -                    तुरूप का पत्ता

4. वेदप्रकाश शर्मा-        दहकते शहर
    अंतिम उपन्यास-        भयंकरा

5. अनिल मोहन -          अनोखी दुल्हन

सुनील शर्मा

सुनील शर्मा के उपन्यास
1. प्यार का सागर
उक्त लेखक के विषय में अगर किसी को कोई भी जानकारी हो तो हमें अवश्य प्रेषित करें।
- 9509583944
Email- sahityadesh@gmail.com

मदन शर्मा

मदन शर्मा के उपन्यास
1. जहरीली ( आशा पॉकेट बुक्स)

उक्त लेखक के विषय में अगर किसी को कोई भी जानकारी हो तो हमें अवश्य प्रेषित करें।
- 9509583944
Email- sahityadesh@gmail.com

सुदर्शन बाली

सुदर्शन बाली के उपन्यास
1. मां- बेटा ( आशा पॉकेट बुक्स)

मीनू वालिया


मीनू वालिया के उपन्यास
1. तलाश
2. बैसाखी
3. जिंदगी
4. मेहंदी
5. तराजू
6. राख और अंगारें
7. संबंध
8. चिता की आग
9. पराई बेटी
10. रानी साहिबा
11. बिदाई
12. रोशनी
13. सुहाग का बटवारा
14. सपने अपने-अपने
15. बेगुनाह
16. सुहाग की छाया
17. भाभी माँ
18. औरत अबला नहीं
19. अधूरा सुहाग
20. कानून के दुश्मन (विजय पॉकेट बुक्स- दिल्ली)

उक्त लेखक के विषय में अगर किसी को कोई भी जानकारी हो तो हमें अवश्य प्रेषित करें।
- 9509583944
Email- sahityadesh@gmail.com

वासुदेव

उपन्यासकार वासुदेव के विषय में अभी तक कोई विशेष जानकारी उपलब्ध नहीं है।
एक उपन्यास से मात्र इनके उपन्यासों की सूची उपलब्ध हुयी है।

वासुदेव के उपन्यास
1. प्रायश्चित
2. सौगंध
3. अभागा
4. नया सवेरा
5. कालिया
6. नमक हराम
7. कुलदीपक
8. अधूरा सुहाग
9. भूल
10. वापसी
11. अबला
12. आंचल की छांव
13. पूजा
14. पुजारी
15. गुनाहगार
16. आरती
17. अभिलाषा
18. तीसरी बहू
19. प्रेम पूजा
20. भाभी की सौगंध
21. देवी माँ
22. तपस्या
23. सपनों की राख
24. रिश्ते नाते
25. सूना आंचल
26. इंसानियत
28. उपहार
29. अधूरी दुल्हन
30. घर संसार

उक्त लेखक के विषय में अगर किसी को कोई भी जानकारी हो तो हमें अवश्य प्रेषित करें।
- 9509583944
Email- sahityadesh@gmail.com

Sunday, December 3, 2017

विजय मल्होत्रा

विजय मल्होत्रा के उपन्यास
1. इंसाफ की सौगंध (विजय पॉकेट बुक्स)

उक्त लेखक के विषय में अगर किसी को कोई भी जानकारी हो तो हमें अवश्य प्रेषित करें।
- 9509583944
Email- sahityadesh@gmail.com

Saturday, November 25, 2017

अनिल मोहन

अनिल मोहन (अपडेट जारी)
थ्रिलर सीरिज
1) जुर्म का जहाज
2) आतंक के साये
3) मौत की शतरंज
4) सीक्रेट एजेंट
5) नकली चेहरा
6) घर का भेदी
7) कसाई
8) खुन का रिश्ता
9) नफरत की दिवार
10) अनोखी दुल्हन
11) खून कि प्यासी
12) दो नवों का सवार
13) दाव

मोना चौधरी सीरिज <3

1 चूङेल एक्सप्रेस
2 जिंदाबाद
3 आतंक का चेहरा
4 सौ सुनार की एक लुहार की
5 कहीं पे निगाहें कहिं पे निशाना
6 मैडम डाईनामाईट की वापसी
7 खिसियानी बिल्ली खम्बा नोचे
8 हरी झंडी
9 दहाङ
10 जल्लाद
11 नया नौ दिन पुराना सौ दिन
12 कब्बाब मे हड्डी
13 लम्बी रेश का घोङा
14 अघोरी
15 हूक्म मेरे आका
16 एक अनार सौ बिमार
17 गुलेल
18 बुढी घोङी लाल लगाम
19 खबरी
20 गिरगिट
21 सुंरग
22 एक म्यान दो तलवारे
23 आ बैल मुझे मार
24 मोना चौधरी खतरे में
25 तू चल मैं आई
26 दौलत बुरी बला
27 नागीन मेरे पीछे
28 एक तीर दो शिकार
29 बुरे फसे
30 जान बची लाखों पाये
31 बल खाती बला
32 डायनामाईट
33 लाल बत्ती
34 बिगुल।

<3 देवराज चौहान+मोना चौधरी सीरिज <3
1) हमला
2) जालिम
3) सरगना
4) मास्टर
5) गुड्डी
6) मंत्र
7) जथुरा
8) पोते बाबा
9) महाकाली
10) बंधक
11) सबसे बङा हमला
12) wanted अली
13) जीत का ताज
14) ताज के दावेदार
15) कौन लेगा ताज
16) पहली चोट
17) दुसरी चोट
18) तिसरी चोट
19) महामाया की माया
20) नागमणी
21) नरबली
22) नागिन
23) देवदासी
24) इछाधारी
25) नागराज की हत्या
26) विष मानव
27) मैं हु देवराज चौहान
28) सबसे बङा गुंडा
29) महल {आगामी उपन्यास}

अर्जुन भारद्वाज सीरिज
1) किंबो
2) काम का मोहरा
3) कुएं का मेंढक
4) हिंसा का तांडव
5) खतरनाक आदमी
6) गैंगस्टर
7) खतरे का हथौङा
8) प्यादा
9) एक का दस
10) दरौगा
11) निशाना
12) एक चाल मेरी भी
13) नगाङा
14) मेहरा मर्डर केस
15) दौलत का डंक
16) दौलत की खातिर
17) कुर्बानी का बकरा
18) हमशक्ल

अनिल मोहन

अनिल मोहन

Anil Mohan started his writing career in the early phases of his life. By the time he reached his college life, his interest grew into a passion filled with boundless zeal. This was when he took the plunge and turned his hobby into a profession.

New writers usually get a break as a ghost writer being published under the trade names of Publishers. Anil Mohan did ghost writing for thirteen years. He wrote novels under names of Manoj, Rajvansh, Colonol Ranjeet, Major Balwant and many more. He wrote more than four hundred astonishing novels under these trade names.

In 1988, Anil Mohan finally got an opportunity to get his novels published under his own name. Sabse Bada Hatyaara was the first novel under his name which thoroughly strengthened his image as an Indian Hindi Novelist in the writer’s fraternity. Since then he never looked back. He has several novel series under his name including, Devraj Chauhan Series, RDX Series, Arjun Bhardwaj Series, Jugal Kishore Series, Mona Chaudhary Series, Vijay Bedi Series etc. Amongst these, Devraj Chauhan & Mona Chaudhary (combined in single novels) continue to most popular amongst his readers. For the last twenty years, Anil has written close to 240 novels under his own name.

Broadly speaking, he stands at second place in overall ranking of Indian Hindi Novelists.
However if we consider total number of copies sold & total numbers of novels written by any novelist in a year he will definitely grab the first place amongst his peers.

अनिल मोहन के उपन्यास (अपडेट जारी)
Devraj chauhan series
1 sabse bada hutyara
2 vardi ka nasha
3 sawdhan hindustan
4 juaaghar
5 mukhbir
6 missed call
7 babusa
8 babusa aur rajadev
9 babusa khtre me
10 babusa ka chakrivyuh
11 babusa aur somath
12 babusa aur khubri
13 dakaiti ka alarm
14 shootout in barma
15 contract
16 dakaiyi ka jadugar
17 hong kong me dakaiti
18 liences to kill
19 maim pakistani
20 dubai ka aaka
21 dath warrent
22 shikari
23 100 miles
24 donji
25 barood se mat khelo
26 bhukha sher
27 aadamkhor
28 golabarood
29 nishanebaaz
30 jinda ya murda
31 robbery king
32 khakhi se gaddari
33 jawalamukhi
34 khunkhar
35 janbaaz
36 underworld
37 dollar mama
38 hy jeker
39 mai ka lal
40 giroh
41 bhagora
42 hawan
43 gurga
44 mukhia
45 jinn
46 aantak ka pahar
47 dakaiti master
48 vidhi ka vidhan
49 gangwar
50 mr. hero
51 delhi ka dada
52 danke ki chot
53 jackpott
54 barood ka dher
55 po barh
56 darinda
57 daulat ka taz
58 ghar ka sher
59 gunmam
60 ek rupee ki dakaiti
61 dakaiti ke bad
62 dakaiti
63 takkar
64 paharedaar
65 301 karor ki chabi
66 girohbaaz
67 daulat ke dant
68 dhokha dhari
69 baadshah
70 daulat meri maa
71 27 second
72 jina isi gali me
73 visphot
74 tabahi
75 chaukidaar
76 thekedaar
77 daulat ka jahaj
78 bali ka bakara
79 faire
80 juaari
81 dindahare loot
82 unchi chhalang
83 ek dakaiti asi bhi
84 daulat meri muthi me
85 pap ka ghara
86 takkar ka aadmi
87 jail se farar
88 badmaso ki toli
89 mission dakaiti master
90 takat ka khel
91 camado
92 sarkari shaitan
93 jinda aankhen
94 gorrila
95 crimeworld
96 hatyaar
97 daulat hai hi asi
98 wo kaun tha
99 mission prime minister
100 lootmar
101 daka
102 rafatar 2000
103 52 patte
104 kagaji sher
105 kenkara
106 firauti
107 game
108 U trun
109 sher ki jan khatare me
110 kismat ka sultan
111 daulat kahan chhipaun
112 nasib ke patte
113 sagin dakaiti
114 jall
115 hissedar
116 jadugar
117 daulat khatare me
118 surma
119 fixed game
120 jan ke dusman
121 R.D.X (rdx)
122 guru ka guru (rdx)
123 double plan
124 murga
125 gorkha
126 safed sona
127 daulat se yaari
Devraj chauhan+Mo
na chaudhari series
1 humla
2 jalim
3 saragana
4 master
5 guddi
6 mantra
7 jhthura
8 potebaba
9 mahakali
10 bandhak
11 sabse bada humka
12 wanted ali
13 main hu devraj chauhan
14 sabse bada gunda
15 nagmani
16 narbali
17 nagin
18 pahli chot
19 dusri chot
20 tisri chot
21 mahamaya ki maya
22 jeet ka taz
23 taz ke davedar
24 kaun lega taj
25 devdasi
26 icchhadhari
27 nagraj ki hutya
28 vishmanav
29 MAHAL

vijay bedi series
1 khalbali
2 chabuk
3 36 din
4 90 karor
5 sach ka sipahi
6 damru

Jugal kishore series
1 Tismaar khan
2 Dus numari
3 Dahsat ka daur

RDX series
1 operation to kill
2 operation 24 carrot
3 don ka mantari(devraj chaun)
4
5 guru ka guru(devraj)
6 RDX (devraaj)

Arjun bhardavaj series

1 Payada
2 Daroga
3 Ek ka dus
4 Nishana
5 Ek chal meri bi
6 Kuyen ka mendak
7 kimbo
8 Hinsa ka tandav
9 khatre ka hathora
10 gangster
11 mehra murder case
12 kam ka mohra
13 khatarnakh aadmi
14 nagada
15 daulat ka dunk
16 daulat ki khatir
17 kurbani ka bakra
18 Humsakal

mona chaudari and thriller bi kuchh time me jod denge
Admin

Friday, November 24, 2017

राज भारती

अपडेट जारी...
कमलकांत सीरिज
1. तिगनी का नाच
2. तेरी गर्दन मेरे हाथ
3. त्रिशूल
4 मौत खङी तेरे द्वार
5. विष क्या
6. हिसाब बराबर
7. कातिल माने ना
8. काम तमाम
9. सारे दिमाग मेरे शिकार
10. दिल तो कातिल है
अग्निपुत्र सीरिज

1. मायाजाल
2. महादण्ड
3. खुदा का बेटा
4. महाबली
5. महाक्रोधी
6. महारथी
7. महायोगी
8. महामंत्र
9. महाकाल
10. महादाह
11. महामंत्र
12. महापाप
13. महाविनाश
14. महासंग्राम
15. महाकुण्ड
16. अग्निपुत्र
17. रक्तपात
18. रक्तधारा
19. मिस्त्री शहजादी
20. रक्त सिंदूर
21. रक्त सागर
22. शंग्रीला
23. रक्त पिपासु
24. रक्त रेखा
25. रक्त आहुति
26. रक्त कलश
27. रक्त-सुरा
28. रक्तांचल
39. रक्तदेव
30. रक्त -भैरवी
41. रक्त-मंथन
42. मृत्युराग
43. मृत्युदंश
44. मृत्युधाम
45. मृत्युजाल
46.. मृत्युरथ
47. मृत्युद्वार
48. शाही रक्कासा
49. सफेद कबूतरी
50. मल्लिका का ताज
51. शाही जल्लाद
52. ताजपोशी
53. जादूगरनी
54. दोधारी तलवार
55. रक्त-मंदिर
56. तौर ग्रह के हत्यारे
57. तौर ग्रह के देवता
58. मंगोल सुंदरी
60. तौर ग्रह के छापामार
61. अभिसारिका
62. सुर्ख सैलाब
63. सरहदी भेङिये
64. शिकारी मल्लिका
65. तौर के लूटेरे
66. रेगिस्तानी कबीले की मल्लिका
67. हुंकार
68. आमरा
69. आमरा का इंतकाम
70. विनाश चक्र
71. बिल्ला हरूमा
72. शिंगूर के दरिंदे
73. शाबा
74.शंखनाद
75. महायोद्धा (65 वा उपन्यास, अग्निपुत्र)
76.
77.
78.
79.
80


उक्त लेखक के विषय में अगर किसी भी पाठक मित्र के पास कोई भी जानकारी हो तो हमें भेजने का कष्ट करें।
- गुरप्रीत सिंह
     - 9509583944
Email- sahityadesh@gmail.com

Thursday, November 9, 2017

रवि माथुर

रवि माथुर

रवि माथुर के उपन्यास
1. आखिरी औरत
2. हत्यारे हाथ
3. जहरीले होंठ
4. अंधा सौदा
5. जीने का हक
6. कत्ल के बाद
7. जिंदगी का जहर
8. तेरह जून की रात    (थ्रिलर विशेषांक)
9. नरम गोश्त
10. लोहे के कंगन        (थ्रिलर विशेषांक)
11. हत्यारी हड्डी
12. डिब्बा बंद लाशें  (थ्रिलर विशेषांक)
13. कानून का पुतला ( थ्रिलर विशेषांक)
14. इंसाफ का खुदा
15. कब्र का बिज्जू
16. नर्क का शैतान
17. कांपता शहर       ( थ्रिलर विशेषांक)
18. शहरी गुण्डे          ( थ्रिलर विशेषांक)
19. जादूगरनी का जाल
20. कांटों का ताज  (क्रम 01 -20 तक, थ्रिलर सीरिज)
21. मनहूस मखौटा     (सुंदरी सीरिज)
22. मुसीबत का मारा  (सुंदरी सीरिज)
23. मोम का मुर्दा        (सुंदरी सीरिज)
24. दर्द की दहशत      (राजा-लैला सीरिज)
25. दांत का जहर       (राजा-लैला सीरिज)
26. मानव बम            (राजा-लैला सीरिज)
27. फिरौती का फंदा    (राजा-लैला सीरिज)
28. ब्राउन शुगर          (राजा-लैला सीरिज)
29. लाल बादशाह       (राजा-लैला सीरिज)
30.
उपर्युक्त सभी उपन्यास दुर्गा पॉकेट बुक्स मेरठ से प्रकाशित हैं।

रवि माथुर
428/15 B,
ईश्वरपुरी, मेरठ- 250002

Wednesday, November 8, 2017

नये उपन्यास

नमस्कार मित्रो,
  इस पोस्ट के माध्यम से कुछ नये उपन्यासों की चर्चा की जा रही है जो शीघ्र बाजार में उपलब्ध होंगे।

1. ए टेरेरिस्ट- इकराम फरीदी।
      इकराम फरीदी का नया उपन्यास ए टेरेरिस्ट रवि पॉकेट बुक्स से बाजार में उपलब्ध हो गया है।
  फरीदी जी का ' गुलाबी अपराध' का भी शीघ्र रिप्रिंट बाजार में उपलब्ध होगा।
2. मिशन आश्रम वाला बाबा- टाइगर।
     हरियाणा निवासी टाइगर (JK VERMA) का उपन्यास ' मिशन आश्रम वाला बाबा' की स्क्रिप्ट प्रकाशक के पास भेज दी गयी है, जो की शीघ्र बाजार में उपलब्ध होगा।
पाठकों को इस उपन्यास का काफी लंबे समय से इंतजार था।
प्रकाशक- राजा पॉकेट बुक्स

3. वीर की विजय यात्रा- दिनेश चारण।
     दिनेश चारण का ऐतिहासिक फिक्शन वीर की विजय यात्रा सूरज पॉकेट बुक्स से अतिशीघ्र बाजार में आने को तैयार है।
ध्यान रहे की दिनेश चारण का यह उपन्यास ONLINE प्रकाशन के रूप में काफी समय से चर्चा में है। प्रिंट रुप में पाठकों के समझ पहली बार आ रहा है ।

4. वन शाॅट - ली चाइल्ड (अनुवाद)
     प्रसिद्ध अनुवादक शबा खान जी द्वारा ली चाइल्ड के प्रसिद्ध अंग्रेजी उपन्यास का हिंदी अनुवाद सूरज पॉकेट बुक्स ला रहा है।

5. मुर्दे की जान खतरे में - अनुराग कुमार जीनियस
   अनुराग कुमार जीनियस का बाल उपन्यास हिंदुस्तान पेपर बुक्स से शीघ्र बाजार में उपलब्ध होगा।
इसके अलावा अनुराग जी का एक उपन्यास सूरज पॉकेट बुक्स से भी आने वाला है।

6. अगिया बेताल- परशुराम शर्मा
अपने समय के बहुचर्चित उपन्यासकार परशुराम शर्मा का उपन्यास 'अगिया बैताल' का रिप्रिंट सूरज पॉकेट बुक्स ला रही है। यह एक हाॅरर उपन्यास है।

Saturday, November 4, 2017

अरुण अंबानी

कानपुर के निवासी अरुण अंबानी लोकप्रिय उपन्यास जगत में जासूसी उपन्यास लेखक थे।
  इनका एक प्रसिद्ध पात्र था रंजन दूबे
रंजन दूबे:-
   महाहरामी, महाशातिर, महामक्कार, इक्कीस कत्ल करने के बाद उसने कत्लों की गिनती करनी छोङ दी थी।  इनके बारे में एक बात मशहूर है कि सांप पर विश्वास कर लेने वाला तो हो सकता है एक बार जिंदा बच सकता है, लेकिन रंजन दूबे पर विश्वास किया, वो तो मरा ही मरा।

  इनके उपन्यासों से संबंधित हालांकि अभी तक कोई विशेष जानकारी प्राप्त नहीं हो पायी।
इनके उपन्यास सूर्या पॉकेट बुक्स से प्रकाशित हैं।

अरुण अंबानी के उपन्यास
1. खलीफा
2. खजाने का साँप
3. दौलत सबकी दुश्मन
4. मौत का ताज
5.

संपर्क लेखक-
अरुण अंबानी
339/12,
बापू नगर, कानपुर।

- उक्त लेखक के विषय में अगर किसी के पास कोई भी जानकारी हो तो हमसे अवश्य शेयर करें।
- 9252829634

प्यारे लाल आवारा - संस्मरण

प्यारे लाल 'आवारा ' - संस्मरण

इलाहाबाद के कीडगंज में निवास और प्रकाशन था । अत्यन्त निर्धन , बैकवर्ड क्लास परिवार में जन्म हुआ था।
      सिरकी  बाँस को छीलकर उसके परदे बनाना उनके परिवारी जनों का कार्य था। जब मैं उनके सम्पर्क में आया तो वे बी.ए. पास, चालीस साल के करीब सुखी परिवार वाले थे, पर बहुत अमीर नहीं।
   रूपसी प्रकाशन, बिरहाना रोड, कीडगंज , इलाहाबाद पता लिखा जाता था। उस दौर में निकलने वाले नाॅवल,जासूसी सामाजिक सभी मैगज़ीन कहलाते थे। हर माह निश्चित तिथि को निकलते थे। ज़रूरी इसलिए होता था क्योंकि पोस्टल सुविधा प्राप्त होती थी। बंडल बनाकर,पोस्ट आफिस से आए बैगो में भरकर, रिक्शे पर लादकर पोस्ट आफिस ले जाने कि प्रक्रिया अपनाई जाती थी । एक रूपया पच्चीस पैसे व पचहत्तर पैसे, इस दो कैटेगरी में मैगजीन होती थी।  प्यारे लाल जी के यहाँ से एक उनका लिखा उपन्यास हर माह रूपसी(पत्रिका) में निकलता था, दो अन्य पचहत्तर पैसे वाली मैगज़ीने -- रहस्य व रोमांच होती थी।
       प्यारे लाल जी खुद प्रकाशन के काम में दखलअंदाजी करना पसन्द न करते थे। मालिक वे ही थे, पर सारा काम उन्होंने अपने छोटे भाई श्याम लाल को सौंप रखा था। वे सुबह आठ बजे सोकर उठने के बाद नीचे आफिस में आते थे । आफिस,एक तरह से उनकी बैठक थी। जब तक वे बैठक में हैं,बैठक चलती रहती थी। बैठक खाली है तो मानिये प्यारे लाल जी नहीं है। रिक्शे पर घूमने, मिलने- जुलने निकल गये। निकल गये तो निकल गये, कोई बता नहीं सकता कि कब आयेंगे।  रिक्शे के अलावा कोई और सवारी का साधन उन दिनों न था। कार, स्कूटर ,मोटर साइकिल...राम का नाम लीजिए , या तो साईकिल कुछ अच्छी हैसियत तो रिक्शा । मैं सन् साठ- पैंसठ की बात कर रहा हूँ। बड़े सादा मिजाज़, लम्बे बाल पीछे को काढ़े हुए। एक बार कंघा मारकर ऊपर से उतर आए तो फिर सारा दिन हाथ से या झटककर बालों को ऊपर ले जाने का खुद का स्टाइल।  चौड़ी मोहरी का पायजामा, लम्बा साफ़-सफ़्फाफ़ कुरता, पैरों में काली, अँगूठे वाली चप्पल । सफेद कुरते- पायजामे से हमेशा एक सा प्यार। कभी किसी और पोशाक में नहीं देखा । घर- आफ़िस में हैं तो लिज़मिज़ा कुरता- पायज़ामा भी चलेगा।  बाहर जा रहें हैं तो इस्त्री युक्त। कपड़े घर मे धुलते थे, इसकी सनद यह की बालकनी मे हर दिन धुला कुरता- पायजामा एक जोड़ी सूखता नज़र आता था। कुरता- पायजामा मोटे सूत का। जाड़े में भी वही पोशाक, अलबत्ता बस खादी की जैकेट का इज़ाफा हो जाता था।
     ‌कद लम्बा, छ: फुट से निकलता हुआ,  दो-तीन इँच ऊपर । सनद यह है कि जब उनके करीब जाकर खड़ा होता तो उनके कंधे तक खुद को आँकता।
    जब मैं उनके पास जाता-आता था तो एक नौ-दस वर्षीय पुत्री के पिता थे। पुत्री का नाम नीता। मैं सुबह आठ बजे पहुँचा नहीं कि वे उतरकर आ रहे होते या मिनट दो मिनट बाद आ जाते। गुरू- शिष्य की गरिमा युक्त औपचारिकता का निर्वाह। मेज के पीछे हमेशा एक जगह मौजूद कुर्सी पर आसीन होते ही हल्की आवाज़ में पुकार--" श्याम... "
और मैंने हाथ बढ़ाकर कहा--" मैं लाता हूँ। "
उन्होंने नोट बढ़ाया और मैं सिगरेट लेने के लिए क़दम बढ़ाए। विल्स सिगरेट पीते थे। मैंने पैकेट लाकर दी , सिगरेट शुरू।
फिर आवाज़ दी,"नीता "
नीता चाय के दो कप के साथ हाज़िर। एक कप मेरी ओर बढ़ाई , दूसरी खुद शुरू। इस तरह शुरू हुई गुरू जी की दिनचर्या। रात को लिखते थे। कभी सारी-सारी रात, इस बात की चुगली उनकी सुबह आँखों की सुर्खी, सोई- सोई आँखें कर देती थीं। शाम को सिविल लाइन स्थित काफी हाउस में जाना ज़रूरी होता था। उस दौर में सैकड़ों साहित्यकार के रूप मे ख्याति प्राप्त हो, लुगदी साहित्य का यशस्वी कथाकार हो, कवि हो या राजनीति का नया-पुराना खिलाड़ी...काफी हाऊस में देखा जाना शान की बात समझता था ।....आगे फिर कभी..

@ आबिद रिजवी जी के स्मृति कोष से।

आबिद रिजवी©
- लेखक, प्रकाशक की अनुमति के बिना इस आलेख का अन्यत्र किसी भी प्रकार का प्रकाशन अमान्य और कानूनन अपराध है।

Saturday, October 28, 2017

विशाल

विशाल नामक उपन्यासकार के विषय में अभी तक कोई विशेष जानकारी उपलब्ध नहीं हो पायी।

विशाल के उपन्यास
1. वह देवी थी (सुबोध पॉकेट बुक्स)

कुसुम गुप्ता

कुसुम गुप्ता के विषय में अभी तक कोई विशेष जानकारी उपलब्ध नहीं हो पायी।

कुसुम गुप्ता के उपन्यास
1. लाश की गवाही ( सुबोध पॉकेट बुक्स)

Friday, October 27, 2017

नाना पण्डित- जितेन्द्र मिश्र

वेदप्रकाश शर्मा के एक सदाबहार पात्र केशव पण्डित की जितनी नकल लोकप्रिय उपन्यास साहित्य में हुयी है उतनी शायद ही किसी पात्र की हुयी हो।
केशव पण्डित नाम से मिलते- जुलते असंख्य लेखक व पात्र उपन्यास जगत में आ गये।
  ऐसे ही एक लेखक हैं नाना पण्डित। नाना पण्डित का वास्तविक नाम जितेन्द्र मिश्र है और ये उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले से संबंध रखते हैं।
  नाना पण्डित ने भी केशव पण्डित को आधार बनाकर दुर्गा पॉकेट बुक्स से केशव पण्डित सीरीज नाम से उपन्यास लिखने आरम्भ किये।

लेखक का पता-
नाना पण्डित
मो. मुन्नूगंज गांधी विद्यालय के पीछे,
गोला गोकरन नाथ,
जिला- लखीमपुर खीरी,
उत्तर प्रदेश- 262802
नाना पण्डित के क्रमशः उपन्यास
1. डंक (प्रथम उपन्यास)
2. सबसे बङा डाका
3. जिगैलो
4. जंग
5. सब मरेंगे बारी-बारी
6. कत्ल का कारीगर
7. मर गये मारने वाले
8. गोली तेरे नाम की (आठवा उपन्यास)
9. वारदात              ( नौवां उपन्यास )
10. केशव पण्डित लङेगा वकील से।

उक्त लेखक के विषय में अगर किसी के पास कोई और जानकारी हो तो हमसे अवश्य शेयर करें।
धन्यवाद ।
- 9509583944

Sunday, October 22, 2017

प्यारे लाल आवारा


प्यारे लाल आवारा के उपन्यास
1. पगडंडी
2. अँगङाई
3. जाङे की रात
4. अनारकली
5. सबेरा (सवेरा)
6. धङकन
7. खण्डहर
8. भँवर
9. घायल
10. सुखे पत्ते
11. शबनम
12. हमारी गलियां
13. अमावस
14. मोहमाया
15. पायल
16.सोलह अगस्त
17. मुमताज
18. पीली कोठी
19. रोते नैना
20

कुशवाहा कांत का परिवार

    हिंदी लोकप्रिय उपन्यास जगत के एक जगमगाते सितारे थे कुशवाहा कांत। लेकिन यह सितारा असमय ही पाठकों को अलविदा कह गया।
कुशवाहा ने कुल 35 उपन्यास लिखे थे।
कुशवाहा कांत के पश्चात इनकी पत्नी गीतारानी ने भी लेखन क्षेत्र में हाथ आजमाया। 
कुशवाहा कांत के छोटे भाई जयंत कुशवाहा भी उपन्यास लेखक थे।
हालांकि गीतारानी कुशवाहा और जयंत कुशवाहा के उपन्यासों की संख्या का कोई पता नहीं की इन्होंने कितने उपन्यास लिखे।
    लेकिन कुशवाहा कांत के उपन्यासों के साथ- साथ  जयंत कुशवाहा के उपन्यास भी पाठकों के पास आज भी उपलब्ध हैं।
    कुशवाहा परिवार एक ऐसा परिवार है जिसने उपन्यास जगत को तीन उपन्यास लेखक दिये।

-

गीतारानी कुशवाहा

श्रेष्ठ सामाजिक उपन्यासकार कुशवाहा कांत के बाद उनकी पत्नी भी लेखन क्षेत्र में आयी।
   हालांकि उनके द्वारा लिखे गये उपन्यासों की पूर्ण जानकारी तो उपलब्ध नहीं है।

गीतारानी कुशवाहा के उपन्यास

1. सरोज

राज भारती

लोकप्रिय उपन्यास जगत में राजभारती का एक अलग ही स्थान है।
उनके हाॅरर उपन्यास पाठकों को काफी पसंद आते थे।

राज भारती के कुछ उपन्यास
अव्यवस्थित क्रम से।

मौत ही मौत (पवन पॉकेट बुक्स)
काली बस्ती काले लोग (पवन पॉकेट बुक्स)
काला सूरज- सागर सीरिज ( दुर्गा पॉकेट बुक्स)
नीली आँखों वाली लङकी( पवन पॉकेट बुक्स)
नवाब मर्डर केस (डायमंड पॉकेट बुक्स)


राज भारती-
महाशक्ति- पच्चीसवां उपन्यास (शिवा पॉकेट बुक्स)

रवि पॉकेट बुक्स-
1. स्वाहा
2. लंगङा प्रेत
3. अनहोनी
4.  सर्पहार
5. पिशाच कन्या
6.
पवन पॉकेट बुक्स
1. नीली आँखों वाली लङकी (सागर सीरिज)
2. मौत ही मौत

डायमंड पॉकेट बुक्स
1. मौत की परछाइया
2. खून की होली
3 नवाब मर्डर केस
5 गोली तेरे नाम की
5 मौत का खेल
6 मुट्ठी भर बारूद
7. कानून अंधा नहीं
8. कमांङो (कमांडो शिव सीरिज)
9. सिरफिरे
10. रक्त तिलक
11. प्यासे खून के
12. मासूम हत्यारा
13. कातिलों के कातिल
14. कागज की लंका
15. कहर खुदा का (समीर साहनी सीरिज)
16. अंगारों का नाच
17. लो मौत मुस्कुराई
18. घेराबंदी
19. धुएं की दीवार
20. एक कटोरा खून
21. मन के काले
22. खून की होली
23. और कत्ल हो गया (समीर साहनी सीरिज)
24. नवाब मर्डर केस
25. दगाबाज
26. कोहराम
27. नफरत की आंधी
28. जान हथेली पर
29. प्रेत सुंदरी
30.
31.

लेखक का पता:-
B-118, वेस्टपटेल नगर
न ई दिल्ली- 110008

राजहंस

राजहंस अपने समय के एक चर्चित उपन्यासकार थे।
सामजिक उपन्यासकारों में एक अपना एक अलग व विशेष स्थान था।

राजहंस के डायमंड पॉकेट बुक्स- से प्रकाशित कुछ उपन्यास ।

1. स्वामी
2. कोहरा
3. संगदिल
4. नसीब
5. तिनके
6. नासूर
7. सिसकता सवेरा
8. चिंगारी
9. दूरियाँ
10. औरत

अंशुल

अंशुल के डायमंड पॉकेट बुक्स से प्रकाशित कुछ उपन्यासों के नाम उपलब्ध हैं जो यहाँ प्रकाशित किये जा रहें हैं।
1. बिछङे साजन
2. कलंकित सुहाग
3. रिश्तों की जंजीर
4. ऋचा

लोकदर्शी

लोकदर्शी एक सामाजिक उपन्यासकार थे।

लोकदर्शी के उपन्यास
1. प्रेम दीवानी
2. अंधी प्रतीक्षा
3. सपनों का सवेरा
4.

कुमार कश्यप

कुमार कश्यप अपने समय के एक चर्चित जासूसी उपन्यासकार थे।

कुमार कश्यप के उपन्यास
1. सुहागिन लाश
2. दगाबाज दलाल
3. लाशों का द्वीप
4. इंसाफ की पुकार
5. लुटेरों के देश में
6. देश के दुश्मन
7. जगत और एजेंट जीरो

उक्त लेखक के विषय में अगर किसी को कोई भी जानकारी हो तो हमें अवश्य प्रेषित करें।
- 9509583944
Email- sahityadesh@gmail.com

ओमप्रकाश शर्मा

अपने समय के एक बहुत ही लोकप्रिय लेखक हुये थे- ओमप्रकाश शर्मा। उनकी उपन्यासों पर उनका नाम लिखा होता था- जनप्रिय लेखक ओमप्रकाश शर्मा। यह भी एक हकीकत है की वे जनप्रिय थे।
    मुख्य धारा के साहित्यकार भी ओमप्रकाश शर्मा जी के उपन्यास पढते थे।
  इनकी लोकप्रियता से प्रभावित होकर एक और ओमप्रकाश शर्मा उपन्यास जगत में आये। दूसरे ओमप्रकाश शर्मा वास्तव में कॊई लेखक थे या छदम लेखक (Ghost Writer) इस बारे में कुछ तथ्यात्मक नहीं कहा जा सकता। अधिकतर पाठक भी नाम के चक्कर में भ्रमित हो जाते हैं।
   मुख्य लेखक का नाम उपन्यास छपता था वो था- जनप्रिय लेखक ओमप्रकाश शर्मा। इनके नायक थे जगत व बंदूक सिंह।
दूसरे लेखक थे उनका उपन्यास नाम छपता था- ओमप्रकाश शर्मा। इनके मुख्य नायक थे- विक्रांत।
ओमप्रकाश शर्मा के उपन्यास
1. उंगलियों का सौदागर
2. चकमक का किला
3. जादूगर कमालपाशा
4. तीन शैतान
5. नीली छतरी
6. पागल वैज्ञानिक
7. रति मंदिर का रहस्य
8. आदमखोर जानवर
9.
10.
11.
12.
13.
14.
15.
16.
17.
18.
19.
20.

चेतना

चेतना एक महिला सामाजिक उपन्यासकार थी।
चेतना के डायमंड पॉकेट बुक्स से प्रकाशित कुछ उपन्यासों के नाम इस प्रकार हैं।
1. किनारा
2. दूर बसेरा
3. सोने का घरोंदा
4. विधाता
5. चुटकी भर सिंदूर
6. गूँजते खण्डहर
7.
8.
9.
10.

वेद प्रकाश कंबोज

वेदप्रकाश कंबोज के उपन्यास
1. और दिलदार मर गया
2. गुमशुदा जासूस
3. धङकन मौत की
4. सारगोसा की सनसनी
5. नकली हीरे जाली नोट
6. जहर के पुलते
7. हिंसा की ज्वाला
8. कदम-कदम पर धोखा
9. फाॅरेस्ट ऑफिसर
10. शिकारी कुत्ते
11.
12.
14.
14.
15.

सत्यपाल


सत्यपाल के उपन्यास
1. सुहागिन का पाप
2. दुल्हन एक ऐसी भी
3. पत्थर के लोग
4. काली चांदनी
5. आखिर कब तक
6. आने वाला कल
7. लाखों में एक

गुलशन नंदा

गुलशन नंदा के उपन्यास
1. नीलकंठ
2. कांच की चूङियां
3. जलती चट्टान
4. घाट का पत्थर
5. मैं अकेली
6.  गुनाह के फूल
7. आसमान चुप है
8.
9.
10.

Saturday, October 21, 2017

शगुन शर्मा

हिंदी लोकप्रिय उपन्यास जगत के सितारे वेदप्रकाश शर्मा के पुत्र शगुन शर्मा के नाम से भी उपन्यास बाजार में आये।
       हालांकि अधिकांश पाठकों का यह मानना है की ये उपन्यास स्वयं वेदप्रकाश शर्मा ने ही लिखे थे बस पुत्रमोह के चलते शगुन शर्मा ने नाम से प्रकाशित करवा दिये‌। शगुन शर्मा के प्रारंभिक उपन्यासों की शैली पूर्णतः वेदप्रकाश की ही है।
      वहीं कुछ पाठक यह भी मानते हैं की शगुन शर्मा के नाम से आने वाले प्रारंभिक उपन्यास वेदप्रकाश शर्मा ने लिखे और बाकी किसी अन्य घोस्ट राइटर ने।
    उक्त दोनों तथ्यों से यही निष्कर्ष निकलता है की इन उपन्यास लेखन में शगुन शर्मा का कोई योगदान नहीं।
    लेकिन उक्त किस्से से अपना कोई अर्थ नहीं है। अपने सिर्फ यह देखना है की शगुन शर्मा के नाम से बाजार में कौन कौन से उपन्यास आये।

शगुन शर्मा के उपन्यास
1.
2. विश्वविजेता
3. मेरा बेटा तीर सा
4. धरोहर
5. इरादा
6.

Full  update after some time.

Friday, October 20, 2017

वेदप्रकाश शर्मा


List
1 दहकते शहर
2 आग के बेटे
3 खूनी छलावा
4 छलावा और शैतान
5 विकाश और मैंकाबर
6 विकास मैंकाबर के देश में
7 मैंकाबर का अंत
8 प्रलयकारी विकास
9 एक मुठ्ठी दर्द
10 अपराधी विकास
11 मंगल सम्राट विकास
12 विनाश दूत विकास
13 विकास की वापसी
14 विजय और विकास
15 महाबली टुम्बकटू
16 विकास दी ग्रेट
17 पहली क्रांति
18 दूसरी क्रांति
19 तीसरी क्रांति
20 क्रांति का देवता
21 हीरों का बादशाह
22 पाकिस्तान का बदला
23 प्रिंसेस जैक्सन का देश
24 सी. आई.ए. का आतंक
25 रहस्य के बीच
26 आयरन मैन
27 सिंगही और मर्डर लैंड
28 बदसूरत
29 सुमन
30 अर्थी मेरे प्यार की
31 राखी और सिन्दूर
32 आलपिन का खिलाडी
33 सफ़ेद चूहा
34 दौलत पर टपका खून
35 कोबरा का दुश्मन
36 इंकलाब का पुजारी
37 सबसे बड़ा जासूस
38 चीते का दुश्मन
39 विश्व विजेता
40 तीन तिलंगे
41 आग लगे दौलत को
42 शहीदो की चिता
43 खून की धरती
44 तिरंगा झुके नहीं
45 वतन की कसम
46 खून दो आजादी लो
47 बिच्छू
48 लाश कहाँ छुपाऊ
49 कानून मेरे पीछे
50 जजमेंट
51 दौलत है ईमान मेरा
52 देवकांता संतति भाग-१
53 आ बैल मुझे मार
54 देवकांता संतति भाग-२
55 देवकांता संतति भाग-3
56 देवकांता संतति भाग-4
57 देवकांता संतति भाग-5
58 देवकांता संतति भाग-6
59 देवकांता संतति भाग-7
60 देवकांता संतति भाग-8
61 देवकांता संतति भाग-9
62 देवकांता संतति भाग-10
63 देवकांता संतति भाग-11
64 देवकांता संतति भाग-12
65 देवकांता संतति भाग-13
66 देवकांता संतति भाग-14
67 वतन
68 गुलिश्तां खिल उठा
69 हिन्द का बेटा
70 देश न जल जाये
71 कानून बदल डालो
72 फ़ासी दो कानून को
73 जला हुआ वतन
74 चीख उठा हिमालय
75 धरती बानी दुल्हन
76 विश्व युद्ध की आग
77 चकमा
78 रूक गयी धरती
79 कर्फ्यू
80 शेर के बच्चे
81 खून ने रंग बदला
82 हत्यारा कौन
83 माटी मेरे देश की
84 मत रो माँ
85 लाखों हैं लाल मेरे
86 गैंडा
87 क़त्ल ए आम
88 हिंसक
89 दरिंदा
90 एक कब्र सरहद पर
91 जय हिन्द
92 रणभूमि
93 वन्दे मातरम
94 गन का फैसला
95 एक और अभिमन्यु
96 सारे जहां से ऊँचा
97 सभी दीवाने दौलत के
98 इंकलाब जिंदाबाद
99 दूध ना बख्शूंगी
100 धर्मयुद्ध
101 बहू मांगे इन्साफ
102 साढ़े तीन घंटे
103 अलफांसे की शादी
104 कफ़न तेरे बेटे का
105 विधवा का पति
106 हत्या एक सुहागन की
107 कैदी न. १००
108 इंसाफ का सूरज
109 दुल्हन मांगे दहेज़
110 सुलग उठा सिन्दूर
111 मेरे बच्चे मेरा घर
112 आज का रावण
113 नसीब मेरा दुशमन
114 औरत एक पहेली
115 कानून का पंडित
116 शीशे की अयोध्या
117 केशव पंडित
118 कानून का बेटा
119 बीवी का नशा
120 मांग में अंगारे
121 विजय और केशव पंडित
122 कोंख का मोती
123 सबसे बड़ी साजिश
124 साजन की साजिश
125 भगवान नंबर दो
126 सुहाग से बड़ा
127 चक्रव्यहू
128 जुर्म की माँ
129 कुबड़ा
130 दहेज़ में रिवाल्वर
131 जादू भरा जाल
132 वर्दी वाला गुंडा
133 जिगर का टुकड़ा
134 लल्लू
135 रैना कहे पुकार के
136 भस्मासुर
137 मेरा बेटा सबका बाप
138 पागल
139 मि. चैलेंज
140 वो साल खद्दरवाला
141 कातिल होतो ऐसा
142 मदारी
143 शाकाहारी खंजर
144 फंस गया अलफांसे
145 पंगा
146 कारीगर
147 ट्रिक
148 कठपुतली
149 एक थप्पड़ हिंदुस्तानी
150 पाक-साफ़
151 गूंगा
152 डमरूवाला
153 असली खिलाडी
154 शिखंडी
155 रामबाण
156 दूर की कौड़ी
157 काला अंग्रेज
158 फिरंगी
159 खलीफा
160 शंखनाद
161 क्यूंकि वो बीवियां बदलते थे
162 वेदमंत्र
163 अंगारा
164 शेखचिल्ली
165 हत्यारा मंगलसूत्र
166 केशव पंडित की वापसी
167 विजय के सात फेरे
168 नौकरी डाट कॉम
169 खेल गया खेल
170 सुपरस्टार
171 पैंतरा
172 कश्मीर का बेटा
173 चलते पुर्जे
174 डायन
175 डायन -2
176 सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री
177 अपने कत्ल की सुपारी
178. छठी अंगुली
179. भयंकरा